स्किन प्रॉब्लम टिप्सजीवन शैली

Vitiligo in hindi : सफेद दाग होने के कारण, लक्षण और इलाज

Aapki Health

— सफेद दाग को लेकर क्या क्या मिथ्य है और क्यों व कैसे होता है Vitiligo

सफेद दाग जिन्हें हम इंग्लिश में Vitiligo भी कहते हैं। आमतौर पर इनकी ऐसी प्रॉब्लम है l जिसे अचानक से महसूस किया जाता है और धीरे-धीरे छोटे-छोटे सफेद धब्बे शुरू होकर आगे बढ़ते हुए पूरे शरीर तक भी फैल सकती है। अभी तक ऐसा नहीं कहा जा सकता है कि सफेद दाग जोकि शरीर के कुछ अंग पर हैं वह शरीर के बाकी अंग तक नहीं जाएंगे। अभी तक इस तरह का कोई भी प्रमाण सामने नहीं आया है बल्कि आमतौर पर देखा जाता है कि किसी को हाथ या पैर पर सफेद दाग (Vitiligo) होने के पश्चात वह वही तक रुक जाते हैं तो किसी के यह धीरे-धीरे शरीर में भी फैल जाते हैं यह आमतौर पर एक स्किन की प्रॉब्लम बताई जाती है जिसे बाहरी इलाज से नहीं ठीक किया जा सकता है बल्कि अंदरूनी इलाज के तौर पर कुछ दवाइयां खाते हुए इसकी रोकथाम जरूर की जा सकती है। इसके लिए विभिन्न प्रकार की दवाइयां आ चुकी है परंतु हम इस आर्टिकल में आपको इसके लक्षण, कारण, इससे होने वाली परेशानियों के बारे में जानकारी देने की कोशिश करेंगे। 

सफेद दाग क्या और क्यों होता है ? l What is Vitiligo

Vitiligo Problem and solution

आमतौर पर त्वचा पर खुजली से शुरू होकर पैर, चेहरे, हाथ, होंठ व् शरीर के अन्य हिस्सों पर सफेद धब्बे पड़ने शुरू हो जाते हैं इसे सफेद दाग (Vitiligo) कहा जा सकता हैं। सफेद दाग (Vitiligo) होने के बहुत से कारण बताए जाते हैं l आमतौर पर गलत खान-पान या फिर दिमाग की टेंशन रखने से इसे मुख्य कारण के रूप माना जाता है। गलत खानपान से हमारे शरीर में कुछ मिनरल्स व विटामिन की कमी होने के साथ हमारे शरीर के काफी अंगों पर इसका असर पड़ता है l उसमें से चमड़ी भी एक अंग के रूप में ही मानी जाती है l सहज रूप से इस पर भी असर पड़ना स्वाभाविक है। 

सफेद दाग (Vitiligo) के कई कारण हो सकते हैं। यहां कुछ सामान्य कारण बताए गए हैं:

  • विटिलीगो (Vitiligo) : यह एक त्वचा का रोग है जिसमें त्वचा के कुछ हिस्सों का पिगमेंट नहीं बनता है, जिसके कारण सफेद दाग पैदा होते हैं। यह उपचार जेनेटिक प्रभाव, ऑटोइम्यूनिटी, और वातावरणीय कारकों के संयोग से हो सकता है।
  • परगुट (Albinism) : परगुट एक वांछित परिवर्तन है जिसमें शरीर की मेलेनिन उत्पादन क्षमता कम होती है, जिससे त्वचा, बाल, और आंखों में सफेद दाग होते हैं। यह एक जननीय रोग हो सकता है या विकसितात्मक आंशिक आंविक निर्बलता के कारण हो सकता है।
  • उम्र (Aging) : वयस्कता के साथ, कुछ लोगों को त्वचा पर सफेद दाग प्राप्त हो सकते हैं। यह अक्सर त्वचा के मेलेनोसाइट्स (melanocytes) की कमी के कारण होता है जो पिगमेंट उत्पादित करते हैं।
  • जीवाणु संक्रमण (Fungal Infections) : कई बार कुछ फंगल संक्रमण त्वचा पर सफेद दाग का कारण बन सकते हैं

डर से ज्यादा होगा सफेद दाग, नही कोई खतरा

Vitiligo

सफेद दाग (Vitiligo) को लेकर एक अलग किस्म की ही धारणा बनी हुई है कि इससे शरीर रूप से काफी ज्यादा परेशानी आ सकती है l परंतु ऐसा देखने में नहीं आता है और यह अजीब सा डर हर कोई लेकर घूम रहा है। गांव में तो इस तरह की बीमारी को छुआछूत, कुष्ठ रोग या फिर अलग-अलग नामों से भी पुकारने लग गए हैं। यह हमारे शरीर में हारमोंस के बदलाव के चलते होती है तो ऐसे में इसको लेकर अलग किस्म का डर रखना गलत बात हैl बल्कि अगर हम ज्यादा डरते हैं तो मानसिक रूप से परेशान होने लग जाती है l जिससे इस तरह की बीमारी कम होने की जगह ज्यादा होने लगती है l क्योंकि हमारा दिमाग हमें कंट्रोल में रखता हैl ऐसे में हम इस तरह की बीमारी को लड़ने की जगह आगे बढ़ने देते हैं। 

सफेद दाग (Vitiligo) के शुरुआती लक्षण

सफेद दाग (Vitiligo) के शुरुआती लक्षण में हमारे स्किन पर काफी ज्यादा खुजली होने लग जाती है और धीरे-धीरे स्किन का रंग गहरे से फीका पड़ना शुरू हो जाता है। इस सवाल के पश्चात कुछ हफ्तों या महीनों के पश्चात उस जगह पर चमड़ी का रंग सफेद होने के चलते वह सफेद दाग (Vitiligo) में बदल जाता है l आमतौर पर यह शुरुआत हमारे हाथ पैर या फिर चेहरों से होती है जहां पर सूरज की रोशनी सीधे तौर पर पड़ती है और उसे हम रोक नहीं पाते हैं।

सोशल साइकोलॉजिकल प्रेशर से रहें दूर

आमतौर पर गांव और अब शहरों में भी सफेद दाग (Vitiligo) को छुआछूत से जोड़कर देखा जाने लगा है l ऐसे में समाज के कुछ लोग आप से दूरी बनाने की कोशिश करते हैं जिसके चलते हम अपने शरीर पर सोशल और साइक्लोजिकल प्रेशर लेना शुरू कर देते हैं। इस तरह के पराशर के चलते हमारे शरीर का नर्वस सिस्टम बिगड़ने लगता है और दिमागी प्रेशर ज्यादा होने के चलते यह बीमारी कम होने की जगह बढ़नी शुरू हो जाती है l बल्कि सफेद दाग इस तरह के प्रेशर से ज्यादा बढ़ भी सकते हैं इसलिए इसको रोकने के लिए सोशल वर्क साइक्लोजिकल प्रेशर से दूर रहना बहुत ज्यादा जरूरी है।

सफेद दाग को कैसे रोके l How to prevent white spots Vitiligo
Vitiligo
Vitiligo

सफेद दाग को दिमागी प्रेशर को कम करने के साथ साथ हमें कुछ ऐसा भी करना होगा जिससे कि यह सफेद दाग रुक सकते हैं या फिर कम भी हो सकते हैं। जिन लोगों को सफेद दाग की परेशानी है उन्हें सूरज की किरणों या फिर यूवी लाइट (UV Light) से दूर रहना चाहिए l क्योंकि इससे हमारी स्किन पर असर पड़ता हैl यह रोशनी सफेद दाग (Vitiligo) को आगे बढ़ा सकती है। पानी की मात्रा कम होने के चलते भी यह सफेद दाग (Vitiligo) बढ़ सकते हैं l ऐसे में इन्हें रोकने के लिए हमें पर्याप्त मात्रा में रोजाना पानी पीना चाहिए l बल्कि हो सके तो हर घंटे पश्चात पानी पीना चाहिए, जिससे कि शरीर में पानी की कमी नहीं होने के चलते सफेद दाग (Vitiligo) ज्यादा तेजी से नहीं बढ़ते हैं बल्कि उनकी गति भी रुक सकती है। अगर हो सके तो पानी को तांबे के बर्तन में रखें और उसे 8 घंटे के पश्चात भी इससे आपके शरीर में काफी ज्यादा बदलाव नजर आएगा और सफेद दाग रुकने से शुरू हो जाएंगे। 

सफेद दाग के उपचार उसके कारण पर निर्भर करेंगे।

यहां कुछ सामान्य उपचार विकल्प दिए गए हैं, लेकिन यदि आपको सफेद दाग की समस्या है, तो आपको अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए ताकि आपको उचित उपचार मिल सके।

  1. स्टेरॉयड क्रीम: सफेद दाग के उपचार में स्टेरॉयड क्रीम आपके चिकित्सक द्वारा प्रावधान की जा सकती है। ये क्रीम त्वचा पर पिगमेंट का उत्पादन बढ़ाने में मदद करती है।
  1. प्रकाश चिकित्सा (Phototherapy): इस उपचार में, त्वचा को विशेष प्रकाश के तहत रखा जाता है, जो मेलेनोसाइट्स के प्रभाव को प्रोत्साहित करता है। इससे पिगमेंट का उत्पादन बढ़ता है।

यह भी पढ़े :- Migraine क्या होता है, माइग्रेन से कैसे राहत पा सकते है ?

Yoga Asanas : योग के आसन और उनके प्रमुख लाभ l

घर बैठे आप भी कम सकते है अपना वजन, अपनाये हुए ऐसे नुक्से, 15 दिन में दिखेगा असर

Disclaimer: यह लेख में सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के आधार पर दिया गया है और इस लेख को सिर्फ पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप नही लेना चाहिए । किसी भी तरफ की परेशानी और इस तरफ की समस्या के लिए अपने डॉक्टर से सलाह जरुर ली जाए l

Read Breaking News https://thestateheadlines.com/


Aapki Health

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button