आयुर्वेदजीवन शैलीयोग

Yoga Asanas : योग के आसन और उनके प्रमुख लाभ l

Aapki Health

— Yoga asanas kaise kren और morning yoga में इसके क्या क्या होंगे लाभ ?

Yoga asanas एक हमारे प्राचीन भारतीय वोह व्यायाम प्रणाली है, जिसके जरिये हम अपने शरीर, मन और आत्मा को ना सिर्फ संतुलित कर सकते है बल्कि अपनी सेहत को भी ठीक रखा जा सकता हैl वेदों में कहा जाता है कि योग के अभ्यास से मन की सुंदरता के साथ साथ तन की सुंदरता को प्राप्त करने में मदद मिलती है। इस लिए रोजाना योग प्रणाली को अपनाते हुए आप अपने आप को फिट व स्वस्थ्य रख सकते है l हम आप के लिए प्राचीन काल से चल रहे कुछ प्रमुख योगासन बता रहे है जिनको आप अपनाते हुए काफी कुछ कर सकते है l

ताड़ासन (Tadasana) Yoga asanas:

Yoga Asanas में ताड़ासन एक अहम आसन है, जिसे इंग्लिश में “Mountain Pose tadasana” भी कहा जाता हैl यह एक प्रमुख योगासन है जो शरीर के सामरिक और मानसिक गुणों को सुधारने के लिए जाना जाता है। यह आसन शरीर की स्थिरता, ध्यान और संतुलन को विकसित करता है और एक मजबूत और सुरक्षित आधार स्थापित करता है।

ताड़ासन कैसे करें और ताड़ासन को करने का तरीका l How to do Tadasana

1.         खड़े हो जाएँ, अपने दोनों पैरों को एक दूसरे से थोड़ी दूरी में रखें। आप को ध्यान रखना होगा कि आपके दोनों पैरों की ऊँचाई या दूरी आपकी कंधों के समान ही होनी चाहिए।

2.         अब अपने दोनों हाथों को साइड पर लटकने दें, अपनी पाल्म्स को आपके शरीर के बाहर तारबूजी के आकार में रखें। अपनी हाथें व्यवस्थित स्थिति में रखें l इसके पश्चात अपने अंगूठों को आपस में छूने दें।

3.         यहाँ पर ध्यान देते हुए, धीरे-धीरे अपने शरीर के वजन को अपने पैरों पर ढालें और अपने शरीर को ताना-मना करें। आपके पैरों के नीचे की ओर बारीक और स्थिरता से खड़े रहें। ऐसा कुछ सेकंड या फिर जब तक कर सकते है l

4.         अब श्वास को गहराई से लें और सिर को सीधा रखें। ध्यान रखें कि आपकी दृष्टि आगे की ओर ही होनी चाहिएl यह आप के नाक के पास होनी चाहिए l  

5.         अब इस स्थिति में कुछ देर तक ठहरें और गहरी साँस लें। आपको स्थिरता, सुख और शांति की अनुभूति होनी चाहिए।

6.         ताड़ासन में रहें और इसे जितना संभव हो सके लंबे समय तक बनाए रखें। ध्यान देते हुए अपनी साँस को धीरे-धीरे छोड़ें और शरीर की ऊर्जा को अनुभव करें।

उत्तानासन (Uttanasana) Yoga asanas:

Yoga asanas

योग में उत्तानासन, जिसे इंग्लिश में “Standing Forward Bend” कहा जाता है, एक प्राणायाम और योगासन है जो शरीर के निचले हिस्से को ताना-मना करने, पीठ को सुव्यवस्थित करने और स्पाइनल को शक्ति प्रदान करने के लिए माना जाता है। इस आसन को करने से मांसपेशियों, पट्टियों और पीठ की लचीलापन में सुधार होता है। इस आसन से पीठ और पैरों की मांसपेशियों को सुचारू रूप से तंग कर सकते हैं और चमकदार त्वचा प्राप्त कर सकते हैं।

उत्तानासन कैसे करें l How to do Uttanasana

1.         खड़े हो जाएँ और अपने पैरों को हॉलीडे हिस्से तक एकदम सुखद स्थिति में रखें। अपने पैरों की ऊँचाई या दूरी बदलने की जरूरत नहीं है।

2.         अब श्वास को आंत तक खींचें और धीरे-धीरे अपने शरीर को आगे की ओर झुकाएँ। हो सके तो अपने हाथों को भी सीधे और सुव्यवस्थित रखें और आंत को आपकी जांघों या नीचे की ओर लगाएँ।

3.         धीरे-धीरे आपको अपनी सिर को अपने जांघों या नीचे की ओर ले जाना है, जिसके कारण आपकी पीठ और बाहरी सीधी बन जाएगी। अपने पूरे ऊँचे शरीर को धीरे-धीरे आगे की ओर झुकाते रहें।

4.         यदि संभव हो, तो आपको अपने हाथों को पैरों के आगे की ओर ले जाने का प्रयास करें। अपने पैरों की उंगलियों को छूने की कोशिश करें, लेकिन यदि आप इसे नहीं कर सकते हैं, तो यह ठीक है।

5.         आप इस स्थिति कुछ देर तक रहें और उसके पश्चात विश्राम मुद्रा में आ जाए l

पदहस्तासन (Padahastasana) Yoga asanas

योग में पदहस्तासन, जिसे इंग्लिश में “Hand to Foot Pose” कहा जाता है, एक योगासन है जो शरीर की लचीलापन बढ़ाने, पीठ को मजबूत करने और हड्डियों को फैलाने के लिए माना जाता है। यह आसन शरीर की ढीलापन को कम करके मांसपेशियों को संतुलित करता है। यह आसन पेट और कमर की चर्बी को कम करने में मदद करता है और त्वचा को स्वस्थ और चमकदार बनाता है।

पदहस्तासन कैसे करें l How to do Padahastasana

1.         धीरे-धीरे खड़े हों और अपने पैरों के बीच में थोड़ी दूरी रखें। पैरों के बीच का अंतर आपकी बढ़ी हुई हुड्डियों की चौड़ाई के बराबर होना चाहिए।

2.         अब आपके हाथों को ऊपर की ओर उठाएँ और सीधे बाईं और दाईं ओर ले जाएँ। आपके हाथों की उंगलियों को पैरों की ओर देखना चाहिए। आपके अंगूठों को आपकी पीठ के साथ संपर्क में रखें।

3.         श्वास को आराम से लेते हुए, धीरे-धीरे आपको नीचे झुकना होगा, अपनी कमर को सीधी रखते हुए। आपको अपने हाथों को अपने पैरों की ओर ले जाना होगा और धीरे-धीरे आपको अपने पैरों को छूने की कोशिश करेंl अगर पहलीवार में ऐसा ना हो तो जायदा जोर ना लगाए और लगातार अभ्यास करते रहें l

4.         ध्यान दें कि आपकी कमर सीधी रहे और आपकी धमनियाँ सजग और फिट रहें। धीरे-धीरे धकेलते हुए, आपको अपनी लचीलापन के अनुसार यथासंभव पैरों को छूने की कोशिश करनी चाहिए।

5.         इस स्थिति में ठहरें और अपनी साँसों को ध्यान से लें। आप जितना संभव हो सके इस स्थिति में बने रहें, फिर धीरे-धीरे स्थिर हो जाए l

भुजंगासन (Bhujangasana) Yoga asanas

योग में भुजंगासन, जिसे इंग्लिश में “Cobra Pose Yoga Asanas” कहा जाता है, एक योगासन है जो शरीर के विभिन्न हिस्सों को मजबूत करने और खींचने के लिए माना जाता है। यह आसन (Yoga Asanas) भुजंग के साँप के आकार को देखते हुए नामित किया गया है। यह आसन पीठ, कंधे, हृदय, पेट और पेट की जटिलताओं के लिए उपयोगी होता है। यह आसन पीठ को मजबूत और सुंदर बनाने में मदद करता है और चेहरे की रंगत को निखारता है।

भुजंगासन को कैसे करें l How to do Bhujangasana

1.         पहले एक योगमाट या चटाई पर साधारण आसन में लेट जाएँ। अपने पेट के बल लेट जाकर अपने स्थानीय योग चट्टान आसन(Yoga Asanas) में आरामपूर्वक रहें और अपनी पैरों को एकदम सुखद स्थिति में रखें।

2.         अब अपने हाथों को बॉडी के सिरे पर रखें, अपने हाथों को बॉडी से पूरी तरह सीधा रखें और अपने अंगुलियों को टिकाएं। अपनी हथेलियों को चटाई या योग मेट के नीचे की ओर रखें और अपनी उंगलियों को चटाई या योग मेट की ओर से हिलने नहीं दें l

3.         अब अपनी सांस धीरे धीरे छोड़ते हुए धीरे अपने शरीर को चटाई या योग मेट से ऊपर उठाएँ। लेकिन अपने हाथों को सीधा रखें और अपने ऊपरी शरीर को भुजंग (गोल) के समान घुमाएं।

4.         जब आपकी हड्डियों को उठाने के बाद अपने सरीर को सीधा करें, तो धीरे-धीरे अपनी छाती को अपने अंगुलियों से दबाएं और अपने हाथों को बाहर करें।

5.         ध्यान दें कि आपके पेट को जमीन सटे हुए रखना होगा l

यह भी पढ़े :- Fatty liver : क्या होता है फैटी लीवर, लक्षण व उपचार

सर्वांगासन (Sarvangasana) Yoga asanas

इस आसन (Yoga Asanas) को करने से पूरे शरीर को त्वचा की जवानी, चमक और स्वस्थता के समान लाभ मिलता है l सर्वांगासन (Sarvangasana) योग का एक प्रमुख आसन है जो पूरे शरीर को लाभ पहुंचाता है। यह शरीर को प्रवाह को बढ़ाने में मदद करता है और त्वचा को ताजगी और चमकदार बनाता है। यहां इस आसन (Yoga Asanas) को करने की विधि इस प्रकार है l

सर्वांगासन को कैसे करें l How to do Sarvangasana

1.         एक योगमेट या चटाई पर आप यह Yoga asanas आसानी से कर सकते हैं। सभी से पह्ले दोनों पैरों को साथ में लटकाएं और अपने पूरे शरीर को आराम से लेटा दें l

2.     ध्यान रखें कि अपने हाथों सीधा होने चाहिए और हाथों को अपनी तरफ रखते हुए उँगलियों को नीचे की करें l

3.    अब श्वास को धीरे-धीरे और गहराई से लेते रहें और अपनी छाती उपर की तरफ को उठाएं, शरीर के अंगों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने के लिए यह काफी प्रभावी आसन है l

4.   अब अपने कंधों और गर्दन को समर्थ करने के लिए आपके हाथों को रखें। धीरे-धीरे अपने पैरों को ऊपर की ओर उठाएं और अपनी पीठ को समर्थ करने के लिए अपने हाथों को बढ़ाएं। आपकी नीचे की ओर की शरीर ऊँचाई पर होनी चाहिए ताकि आप सही स्थिति में रहें।

यह भी पढ़े :- घर बैठे आप भी कम सकते है अपना वजन, अपनाये हुए ऐसे नुक्से, 15 दिन में दिखेगा असर

शवासन (Shavasana) Yoga asanas

Yoga asanas में Shavasana का एक महत्वपूर्ण आसन है जो शारीरिक और मानसिक तनाव को कम करने में मदद करता है। यह आसन (Yoga Asanas) सुंदरता को प्राप्त करने में बहुत महत्वपूर्ण है। आम भागदौड़ की जिन्दगी में सभी से ज्यादा तनाव ही रहने लग गया है l इस लिए आप यह आसन करते हुए आपने मानसिक तनाव को काफी कम कर सकते है l

शवासन को कैसे करें l How to do Sarvangasana

एक सम्मुख रूप से एक (Yoga Asanas) योग मेट या चटाई रखें। यदि आप एक योगमाट का उपयोग नहीं कर सकते हैं, तो एक सादा और साफ स्थान चुनें जहां आप Yoga asana कर सकते हैं।

1. अपने पूरे शरीर को धीरे-धीरे तंग करें और शवासन के लिए तैयार हो जाएं।

2.   आपके ऊपरी पीठ को सीधा रखें और अपने पैरों को साथ में सीधा रखें। आपके हाथ सिर के पास हों और अपनी आंखें बंद करें।

3. अब, ध्यान केंद्रित करें और अपने शरीर को शांति और सुस्ती से महसूस करें। ध्यान केंद्रित करने के लिए आप अपने श्वास पर ध्यान दे सकते हैं या आप एक मंत्र या शांति शब्द जैसी चीज़ों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।

4.   अब कुछ देर तक किसी भी मंत्र को बोलते हुए शांति के साथ अपने शरीर को आराम करने दें। इस अवस्था में 5 से 10 मिनट तक रहें l धीरे धीरे आप के दिमाग राहत मिलनी शुरू हो जाएगी और वोह गहरी निंद्रा की तरफ बढने लगेगा और आप का दिमाग शांत हो जायेगा l जिस से आप को बहुत ज्यादा राहत मिलेगी l

Disclaimer: यह लेख में Yoga asana को लेकर सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के आधार पर दिया गया है और इस लेख को सिर्फ पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप नही लेना चाहिए । किसी भी तरफ की परेशानी और इस तरफ की समस्या के लिए अपने डॉक्टर से सलाह जरुर ली जाए l

ताजा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें :- ताजा ख़बरें


Aapki Health

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button